Categories

हिपा में विश्व बैंक के अधिकारियों ने स्ट्राइव योजना की समीक्षा की

शिमला : कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय की विश्व बैंक से पोषित स्ट्राइव योजना के तहत आज चार राज्यों पंजाब, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर व हिमाचल प्रदेश की दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन हिमाचल लोक प्रशासन संस्थान (हिपा) मशोबरा में शुरू किया गया, जिसकी अध्यक्षता विकास और उद्यमिता विशेष सचिव भारत सरकार अतुल तिवारी एवं हिमाचल प्रदेश तकनीकी शिक्षा सचिव अमिताभ अवस्थी ने की।

विश्व बैंक के अधिकारियों द्वारा स्ट्राइव योजना की समीक्षा की गई और परियोजना के कार्यान्वयन में तेजी लाने के लिए चर्चा की गई ताकि समय पर लक्ष्यों को प्राप्त किया जा सके। राज्य महानिदेशक हरियाणा आर.एस. विधान, राज्य निदेशक हिमाचल प्रदेश विवेक चंदेल, जम्मू-कश्मीर के निदेशक सुदर्शन कुमार और पंजाब राज्य के उप-निदेशक ने स्ट्राइव परियोजना के तहत की गई गतिविधियों पर अपनी प्रस्तुतियां दी।
इस दौरान चारों राज्यों के प्रतिनिधियों ने योजना के तहत किए जाने वाले संबंधित कार्यों को साझा किया। हिमाचल प्रदेश द्वारा स्ट्राइव योजना के तहत किए गए कार्यों की विशेष सचिव अतुल तिवारी ने सराहना की तथा अन्य राज्यों को भी इस मॉडल को अपनाने को कहा। विश्व बैंक के प्रतिनिधि शोभना सोसेल वरिष्ठ शिक्षा विशेषज्ञ संगीता डे और कुनाल दत ने परियोजना की समीक्षा कर स्ट्राइव परियोजना के लक्ष्य को सफलतापूर्वक प्राप्त करने के लिए अपने बहुमूल्य सुझाव प्रदान किए गए।
कार्यशाला में प्रधानाचार्य आईटीआई राजगढ़ ने अपनी आईटीआई की प्रस्तुति दी तथा स्मार्ट क्लास रूम ट्रेडों के लिए तीन डीएम सॉफ्टवेयर, क्लाउड आधारित ऑनलाईन प्रशिक्षु प्रबंधन प्रणाली और संस्थान के बेहतर बुनियादी ढांचे जैसे उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। विश्व बैंक के प्रतिनिधियों ने सभी चार राज्यों को योजना के तहत अपने लक्ष्यों को निर्धारित समय अवधि में पूरा करने के निर्देश दिए। इस योजना के अंतर्गत हिमाचल प्रदेश की 19 आईटीआई को कवर किया गया है, जिसके तहत 44 करोड़ 29 लाख रुपये की सहायता अनुदान प्राप्त किया जा चुका है। इस अवसर पर निदेशक तकनीकी शिक्षा हिमाचल प्रदेश विवेक चंदेल, डीजी ईटी सेल के प्रतिनिधि संजय कुमार, प्रधानाचार्य आईटीआई शिमला एवं अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।