Categories

आम लोगों को न्याय दिलाने और जागरुक करने में अधिवक्ताओं की भूमिका महत्वपूर्ण : जय राम ठाकुर

शिमला : मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां हिमाचल प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के विधि प्रकोष्ठ द्वारा अधिवक्ताओं के लिए आयोजित सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि कानून और राजनीति के बीच एक विशेष रिश्ता है, क्योंकि राजनीति के माध्यम से लोगों की सेवा करने के लिए कानून का ज्ञान होना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि राजनीतिज्ञों को समय-समय पर विभिन्न कानूनों से अवगत करवाने में अधिवक्ता महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसके अलावा लोगों को न्याय दिलाने में भी उनका योगदान सराहनीय है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिवक्ता न केवल लोगों को न्याय दिलाने में मदद करते हैं, बल्कि जरूरत पडऩे पर लोगों का नेतृत्व करने की क्षमता भी रखते हैं। उन्होंने कहा कि यह अधिवक्ताओं की जिम्मेदारी है कि उनके पास न्याय की आस में आने वाले लोगों का विश्वास उनके ऊपर कायम रहे। उन्होंने कहा कि अधिवक्ताओं को सरकार के बारे में फीडबैक प्राप्त करने का भी अधिक अवसर मिलता है। उन्होंने कहा कि अधिवक्ता राज्य में विकास के लिए बेहतर विकल्प चुनने के लिए लोगों को प्रेरित भी कर सकते हैं।
जय राम ठाकुर ने कहा कि सामाजिक परिवर्तन लाने में अधिवक्ताओं की भूमिका भी अतुलनीय है। कोविड-19 महामारी के दौरान विपक्ष ने कोरोना रोधी वैक्सीन को मोदी वैक्सीन बताकर लोगों को गुमराह करने की कोशिश की, लेकिन यही नेता खुद टीका लगवाने के लिए सबसे आगे रहे। मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों ने इन नेताओं के झूठे प्रचार को सिरे से नकार दिया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कार्यशैली अन्य नेताओं से बिलकुल अलग और विशेष है। वह हमेशा बड़ी सोच रखते हैं और उसे हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। उन्होंने कहा कि सरदार पटेल के सम्मान में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के निर्माण के समय उन्होंने देश भर से मिट्टी और लोहा एकत्रित करने का विचार दिया, जिससे वास्तव में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी विश्वभर में एकता का प्रतीक बन गया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जम्मू-कश्मीर से धारा 370 को समाप्त करना और अयोध्या में भगवान राम के भव्य मंदिर का निर्माण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा प्रदान किए गए सक्षम और सशक्त नेतृत्व के कारण संभव हो पाया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के हर निर्णय और कार्य का उद्देश्य गरीबों और पिछड़े वर्गों का कल्याण सुनिश्चित करना है और भारत को वैश्विक शक्ति बनाना है।
जय राम ठाकुर ने कहा कि हर व्यक्ति की कार्यशैली अलग-अलग होती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेसी नेता कहते हैं कि कर्मचारियों के साथ सख्ती के साथ पेश आना चाहिए, उनका यह कथन कांग्रेस के तानाशाही रवैये का परिचय देता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के कर्मचारी मेहनती और ईमानदार हैं। उन्होंने राज्य के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। जय राम ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार ने अपने कार्यकाल के पहले दिन से पूरी निष्पक्षता तथा बिना किसी प्रतिशोध की भावना से कार्य किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेसी नेताओं ने प्रदेश की जनता को टोपी के रंग के आधार पर बांट दिया था। उन्होंने कहा कि जिस पार्टी के राष्ट्रीय नेता गेहूं के आटे को लीटर में मापते हैं, उससे क्या उम्मीद की जा सकती है। उन्होंने कहा कि इस समय केंद्र में भाजपा की सरकार का नेतृत्व ऐसे नेता कर रहे हैं जो हिमाचल को अपना दूसरा घर मानते हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के वर्तमान कार्यकाल के लगभग दो वर्ष कोरोना महामारी से प्रभावित हुए हैं, लेकिन राज्य सरकार ने यह सुनिश्चित किया कि प्रदेश में विकास की गति धीमी न पड़े और हर क्षेत्र का निर्बाध विकास सुनिश्चित हो।
जय राम ठाकुर ने कहा कि हिमकेयर, सहारा योजना, मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना, मुख्यमंत्री स्वाबलंबन योजना, मुख्यमंत्री शगुन योजना जैसी अनेक योजनाओं से प्रदेश के लोग लाभान्वित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि जरूरतमंदों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन उपलब्ध करवाने में 1300 करोड़ रुपये की राशि व्यय की जा रही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना के अन्तर्गत गरीब परिवारों को 3.35 लाख नि:शुल्क गैस कनेक्शन प्रदान किए गए हैं। उन्होंने कहा कि शगुन योजना के अन्तर्गत गरीब परिवार की लड़कियों को शादी के समय 31 हजार रुपये की आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जा रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में निवेश को आकर्षित करने के लिए ग्लोबल इन्वेस्टर्ज मीट जैसी नवाचार पहल की है। उन्होंने कहा कि अब तक 92,000 करोड़ रुपये से अधिक के समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित किए गए हैं और अब तक 42,000 करोड़ रुपये की ग्राउंड ब्रेकिंग की जा चुकी है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में शीघ्र ही विधानसभा चुनाव होंगे। ऐसे समय में अधिवक्ता समाज के प्रवक्ता के रूप में कार्य कर सकते हैं और चुनाव में निर्णायक भूमिका निभा सकते हैं, क्योंकि वे जनता की भावनाओं से भली-भांति परिचित होते हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में भाजपा एक बार फिर से मिशन रिपीट हासिल करने में सफल होगी।
इस अवसर पर शहरी विकास एवं कानून मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा कि भाजपा से जुड़े हुए अधिवक्ता संवैधानिक अधिकारों के साथ-साथ मानवाधिकारों के प्रति भी जागरूक हैं। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के विधि प्रकोष्ठ ने प्रदेश, जिले और खंड स्तर पर विभिन्न मामले उठाने तथा उसके निवारण के लिए प्रदेश कार्यकारी समिति, जिला कार्यकारी समिति और तहसील/मंडल कार्यकारी समिति गठित की है। प्रदेश भाजपा के सह-प्रभारी देवेन्द्र राणा ने कहा कि राज्य का नेतृत्व सक्षम और ईमानदार नेता द्वारा किया जा रहा है और आने वाले समय में भाजपा फिर से सत्तासीन होगी।
इस अवसर पर सांसद और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुरेश कश्यप ने कहा कि मोदी सरकार के आठ वर्षों के कार्यकाल में देश में लोगों को पारदर्शी सुशासन दिया गया। जय राम ठाकुर की सरकार प्रदेश में पांच वर्ष का कार्यकाल पूर्ण करने जा रही है और सरकार के विरुद्ध भ्रष्टाचार का एक भी मामला सामने नहीं आया है। इस मौके पर मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार त्रिलोक जम्वाल और अन्य नेता एवं अधिवक्ता भी उपस्थित थे।