02,Dec-2022

श्री बद्रिका आश्रम की छात्रवृत्ति एवं मेंटरशिप योजना को जय चौधरी, संस्थापक और सीईओ, Zscaler से मिला एक बड़ा सहयोग

Spread the love

सिरमौर : सफल उद्यमी और फोर्ब्स के दुनिया के शीर्ष 50 में सम्मिलित कुछ भारतीयों में से एक, श्री जय चौधरी ने श्री बद्रिका आश्रम इमर्जिंग यूथ स्कॉलरशिप एंड मेंटरशिप स्कीम (एस.बी.ए.ई.वाई.एस.एस) में आर्थिक सहयोग दान स्वरुप दिया है।

हिमाचल के कई युवाओं के प्रेरणास्रोत जय को अपने गांव पनोह, जो हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले में स्थित है, में बिजली और पीने के पानी की कमी जैसी समस्यायें होने पर भी कभी भी सफलता हासिल करने से नहीं रोक सके । अपनी सफलता का श्रेय जय अपने विद्यालय के प्रधानाध्यापक को देते हुए कभी नहीं थकते जिन्होंने जय को हमेशा व्यक्तिगत रूप से मार्गदर्शन एवं प्रोत्साहन दिया । हिमाचल प्रदेश के मेधावी एवं वंचित छात्रों पर केंद्रित यह योजना जय को अपने व्यक्तिगत मिशन, जो की योग्य एवं वंचित युवाओं को गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा प्रदान करना है, के समान ही लगती है ।

जय कहते हैं की , “मेरे माता-पिता बहुत उत्सुक थे कि मुझे एक अच्छी शिक्षा मिले और यह मेरे गांव के विद्यालय के प्रधानाध्यापक जैसे लोगों से मिली मदद और मार्गदर्शन ही था, जो मुझे आईआईटी बीएचयू और फिर अमेरिका ले गया। मैं इस पहल के लिए श्री बद्रिका आश्रम इमर्जिंग यूथ स्कॉलरशिप एंड मेंटरशिप स्कीम को बधाई देता हूं और अपने गृह राज्य के बच्चों और विशेष रूप से लड़कियों और ग्रामीण पृष्ठभूमि के लोगों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा पहुँचानें में और उज्ज्वल भविष्य की संभावनाओं को बढ़ाने में मदद करने में शामिल होकर खुश हूं। मैं भारत और भारतीयों पर बहुत आशान्वित हूं, तथा उनके समग्र विकास में भाग लेने का यह मेरा छोटा सा प्रयास है।”

वर्ष २०२१ में शुरू की गई, इस योजना के वर्तमान में लाभार्थी कानून, नर्सिंग, इंजीनियरिंग, आईटीआई, आतिथ्य, शिक्षा और यहां तक ​​कि संस्कृत जैसे पाठ्यक्रमों में हिमाचल प्रदेश के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में स्नातक शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं।

इसके अलावा, लाभार्थियों को उद्योग जगत के दिग्गजों से , कौशल एवं समग्र विकास तथा बाजार-केंद्रित सहायता सम्बंधित व्यक्तिगत सलाह का भी लाभ मिलता है, जिससे उनके आत्मविश्वास और सफल पेशेवरों के रूप में विकसित होने में मदद मिलती है।

प्रथम वर्ष में, 108 छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान की गई है, जिनमें से 71% लड़कियां हैं। 74% से अधिक छात्र ग्रामीण स्कूलों में पढ़ते हैं। अब तक, 23 विश्वविद्यालयों / कॉलेजों के साथ समझौता ज्ञापन (एम.ओ. यू ) पर हस्ताक्षर किए गए हैं, तथा नवीनतम समझौता ज्ञापन (एम.ओ. यू ) 17 मार्च, 2022 को राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (एन. ए. ए.सी.) द्वारा मान्यता प्राप्त हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय (HPU) के साथ किया गया है , जो की राज्य भर के 356 कॉलेजों को संबद्धता प्रदान करता है जिससे इस योजना का लाभ सैकड़ों गरीब छात्रों तक पहुंच सकेगा ।

2022-23 में, एस.बी.ए.ई.वाई.एस.एस योजना के अंतर्गत ३२५ से अधिक छात्रवृत्तियां प्रदान की जाएँगी । आवेदन एवं अधिक जानकारी के लिए https://www.sbahp.org/ पर जाएं या support@sbahp.org पर ईमेल करें।
श्री बद्रिका आश्रम कम चैरिटेबल एंड सोशल वेलफेयर सोसाइटी जिला सिरमौर के शालामू गांव में स्थित एक सामाजिक कल्याण संस्था है जो की स्थानीय समुदाय एवं आम जनमानस के उत्थान की दिशा में काम कर रही है।