Categories

हिमाचल मेरा असली घर दिल्ली में नहीं लगता दिल : प्रियंका गांधी

राम का नाम लेने वाले और राम का काम करने वाले कुछ समझने की है बात

शिमला : चुनाव प्रचार के लिए हिमाचल पहुंची कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने एक के बाद एक ताबड़तोड़ रैलियां की। मंगलवार को सुबह हमीरपुर संसदीय क्षेत्र के गगरेट वाले कुटलैहड़ में कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने पीएम मोदी पर जमकर निशाना साधा। कुटलैहड़ में प्रियंका गांधी ने अपना संबोधन बाबा रुद्रानन्द जी और माता चिंतपूर्णी जी की धरती के साथ शुरू किया।

उन्होंने कहा कि राम का नाम लेने वाले और राम का काम करने वाले कुछ और यह समझने वाली बात है। भगवान राम का नाम वोटों के लिए बार- बार लिया जाता है। दस साल में दो चुनाव निकल गए।अब तीसरे चुनाव की बारी है चुनावों में जो भी भाजपा का प्रचार रहा है वह धर्म के नाम पर रहा है। पीएम मोदी ने पहला चुनाव भी धर्म के नाम पर लड़ा था। चुनाव जीतने के बाद चुनाव प्रचार के समय किए वायदों का जिक्र तक नहीं किया।

प्रधानमंत्री मोदी ने 2014 में किसानों की आय दोगुनी करने, 2 करोड़ नौकरी प्रतिवर्ष देने, कालाधन लाने की बात की लेकिन खैर कोई वायदा पूरा नहीं हुआ। पांच साल बाद फिर चुनाव आया तो कोई महंगाई, बेरोजगारी, और 15 लाख देने की बात नहीं की, रोजगार नहीं मिला, नोटबंदी से देश के हालत और ज्यादा खराब हुए। जो छोटी -मोटी बचत महिलाओं ने इक्कठी की थी उसे भी नोटबन्दी के समस वापिस ले लिया। उन्होंने कहा कि जीएसटी लाए सब महंगा हो गया। पांच साल फिर पूरे हुए फिर से धर्म-जाति, हिन्दू- मुसलमान की वही बातें जो इनकी आदत है जनता को भी डलवा दी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी खुद वाराणसी नहीं जाते न ही हमीरपुर के सांसद आते हैं। बस उद्घाटन और शिलान्यास करने चले जाते हैं। उन्होंने कहा कि मोदी जी ने 10 साल में नई तरीके की राजनीति शुरू हुई है। उससे अब बाहर निकलने का समय आ गया है।

उन्होंने कहा कि पूरे देश भर में नेताओं की आदत बिगाड़ दी गई है। यहां के सांसद बड़े बड़े महलों, क्रिकेट और मंचों पर दिखाई देते हैं लेकिन आपदा के समय यहां नहीं आए। प्रियंका गांधी ने आपदा की एक घटना को याद करते हुए कहा कि शिमला में एक परिवार पर विनाश काल आपदा आई दादा के साथ मंदिर गई नन्ही बच्ची भी मौत में समा गई । इस विपदा में भाजपा नेताओं को हिमाचल की याद नहीं आई।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने 1500 रुपए देकर महिलाओं को महंगाई से राहत देने के लिए उठाया गया कदम है लेकिन भाजपा नहीं चाहती कि महिलाओं को यह हक मिले बल्कि इसे रोकने के लिए चुनाव आयोग से शिकायत कर दी। महंगाई चरम पर है आज पढ़ाई लिखाई के साथ बच्चों की शादी करने से भी डरना पड़ता है। देश में बेरोजगारी चरम पर है 70 करोड़ बेरोजगार दर दर भटक रहे हैं 30 लाख खाली पद पड़े हैं। बड़े बड़े संस्थानों आईआईएम, आईआईटी से पढ़कर बचे बेरोजगार हो गए हैं। नेताओं ने काम करना बंद कर दिया है क्योंकि जवाबदेही खत्म कर दी गई है।

उन्होंने कहा कि पीएम का व्यवहार देश की जनता को बेवकूफ बना रहा है जो व्यवहार वह देश की जनता के साथ करते हैं वह इस पद पर शोभा नहीं देती है। भैंस ,मंगलसूत्र जैसी बातें करते हैं। प्रियंका गांधी ने कहा कि पूर्व पीएम स्व. इंदिरा गांधी देश के लिए शहीद हो गईं लेकिन एक भी वोट धर्म के नाम पर नहीं मांगा। देश में हरित क्रांति लाई, पाकिस्तान को सबक सिखाकर दो टुकड़े किए।

प्रियंका गांधी ने कहा कि प्रदेश सरकार ने आपदा के समय बेहतरीन कार्य किया है। जो दिन रात प्रभावितों की सेवा करने पहुंचे लेकिन भाजपाई सिर्फ राजनीति करते रहे। पीएम मोदी और यहां के सांसद चोरों की तरह सरकार को गिराने का काम करते रहे चोरों की तरह विधायकों को यहां से वहां ले जा रहे थे जो देश ने देखा है। कभी चंडीगढ़ तो कभी उत्तराखंड। बीजेपी कहती है कि संविधान बदलना है लेकिन वोट देने का अधिकार आपसे छीना जाएगा। जो सरकार अग्निवीर जैसी स्कीम ला सकती है उसके दिल में देशभक्ति नहीं हो सकती। शहीद के परिवार की भावना देशभक्ति के लिए होती है लेकिन पीएम मोदी क्या जाने शहीद परिवार की देशभक्ति।

उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने देश की सम्पति अपने करोड़पति दोस्तों के हाथ बेच दी। सेब,कोयला, बंदरगाह, हवाई अड्डा सब अपने प्रियमित्र के हाथों बेच दिया। प्रदेश सरकार ने ओपीएस लागू की लेकिन केंद्र सरकार ने एनपीएस का 9000 करोड़ रुपए देने से मना कर दिया। आपदा के समय केंद्र से एक रुपया नहीं मिला। देश के 22 खरबपतियों का 16 लाख करोड़ रुपए माफ कर दिया। लेकिन किसान ने लिया कर्ज माफ नहीं किया। अब देश में बदलाव लाने का समय है। उन्होंने कहा कि जनता को जागरूक होने का समय आ गया है और एक जून को इन्हें सबक सिखाना है।

प्रियंका गांधी ने कहा कि हिमाचल में उनका स्थाई घर है उनका दिल दिल्ली में नहीं हिमाचल में बसता है। इसलिए वे बार बार हिमाचल में यहां की भोलीभाली जनता से मिलने आती हैं।