Categories

मतदान से पूर्व होने लगा भाजपा का बोरिया बिस्तर पैक : हरिकृष्ण हिमराल

शिमला : हिमाचल प्रदेश में मतदान से पूर्व ही भाजपा का बोरिया बिस्तर बन्द होने लगा है। भाजपा की जनविरोधी नीतियों और जुमलों से तंग आकर भाजपा प्रत्याशियों का काले झंडे से विरोध का सामना करना पड़ रहा है। आज लाहुल स्पिति के काजा में भाजपा प्रत्याशी कंगना रनौत, नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर और विधानसभा उप चुनाव में भाजपा प्रत्याशी रवि ठाकुर को स्थानीय लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा है।

प्रदेश कांग्रेस पार्टी उपाध्यक्ष हरिकृष्ण हिमराल ने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि भाजपा के जुमले लोगों को पसंद नहीं आ रहे हैं इसलिए उन्हें लोगों के विरोध का सामना करना पड़ रहा है। भाजपा ने मंडी संसदीय क्षेत्र से एक ऐसी महिला प्रत्याशी को अपना उम्मीदवार बनाया है जिसे राजनीति का ‘अ न ब’ पता है। वह जहां भी जाती हैं वहां उल्टा सीधा बोलकर लोगों को भड़काने का काम करती हैं। उन्होंने कहा कि जिस प्रत्याशी को यह पता नहीं कि देश कब आज़ाद हुआ था और देश के पहले प्रधानमंत्री कौन थे उसे भाजपा ने अपना प्रत्याशी बनाया है। भाजपा सत्ता की लालच में इतनी अंधी हो चुकी है कि उसे यह पता नहीं लग रहा कि किसे अपना प्रत्याशी बनाया जाए।

हिमराल ने कहा कि दूसरी ओर भाजपा ने लाहुल- स्पिति समेत 6 विधानसभा सीटों पर ऐसे दलबदलुओं को टिकट दिया है। जिन्हें लोगों का जनमत पसंद नहीं आया और अपना ईमान बेचकर और पैसों के लालच में प्रदेश की जनता के साथ धोखा किया है। अब उन्हें इसका खामियाजा लोगों के विरोध से करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि उन्हीं के साथ भाजपा के एक ऐसे नेता को भी लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा जिन्होंने प्रदेश की ईमानदार सरकार को गिराने के सारे हथकंडे अपनाए। उन्होंने कहा कि नेताप्रतिपक्ष जयराम ठाकुर भाजपा के एक ऐसे मुख्यमंत्री रहे हैं जिन्होंने सत्ता के लालच में कांग्रेस सरकार को गिराने के सारे हथकंडे अपनाए लेकिन वे अपने नापाक मनसूबों पर कामयाब नहीं हुए।

जयराम ठाकुर वे सीएम रहे जिन्होंने अपने चेहतों के लिए पैसों से लेकर पदों की बंदर बांट की और प्रदेश की जनता पर 75 हजार करोड़ का बोझ डाला इतना ही नहीं जयराम ठाकुर ने सरकारी कर्मचारियों को वे सुविधाएं भी नहीं दी जो कर्मचारियों के लिए जरूरी थी। जयराम ठाकुर वे सीएम रहे हैं जिन्होंने कर्मचारियों को ओपीएस देने की बजाय चुनाव लडऩे की नसीहत दी थी। सत्ता से जाते जाते उन्होंने लोगों को वेफकूफ बनाने के लिए 900 से ज्यादा संस्थानों को खोलने की घोषणा बिना बजट के की लेकिन 2022 में प्रदेश की जनता ने इसका करारा जवाब देकर उन्हें सत्ता से बेदखल कर विपक्ष में बिठाया आज हालात यह हो गई है कि जहां भी वे चुनाव प्रचार करने जाते हैं उन्हें प्रदेश की नकार रही है।

हिमराल ने कहा कि प्रदेश में सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू के नेतृत्व में पांच साल मजबूती से सरकार चलेगी और लोकसभा की चारों सीटों पर कांग्रेस के प्रत्याशी भारी बहुमत के साथ जीत हासिल करेंगे।