Categories

भाजपा एक देश एक चुनाव नहीं एक देश एक नेता चुनने वाली पार्टी : इंडिया गठबंधन

चुनी हुई सरकार को गिराना लोकतंत्र की हत्या करने वाला कदम : इंडिया गठबंधन
किसानों- बागवानों का हितैषी इंडिया गठबंधन सभी फसलों के लिए मिलेगा एमआईएस

शिमला : लोकसभा चुनाव के लिए अब तक हुए पांच चरणों के चुनाव में इंडिया गठबंधन ने निर्णायक बहुमत हासिल कर दिया है। देश के संविधान को बचाने के लिए विभिन्न दलों ने इंडिया गठबंधन का किया है जो धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र को बचाने के लिए बनाया गया है। शिमला में आयोजित इंडिया गठबंधन की एक संयुक्त पत्रकार वार्ता के दौरान कैबिनेट मंत्री रोहित ठाकुर, विधायक कुलदीप राठौर और माकपा नेता व पूर्व विधायक राकेश सिंघा ने भाजपा पर करारा हमला बोला। उन्होंने कहा कि एनडीए के 10 साल के शासन ने देश को अस्थिर कर खतरा पैदा कर दिया है। अपनी हार देखकर भाजपा बौखलाहट में देश को सांप्रदायिक ध्रुवीकरण का प्रयास कर रही है।

पत्रकार वार्ता के दौरान रोहित ठाकुर ने भाजपा पर किसानों – बागवानों के साथ धोखा करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने 2014 और 2019 में किसानों की आय दोगुनी करनी और सेब को स्पेशल कैटेगरी में रखने की बात कही थी लेकिन पीएम के जुमले ने किसानों बागवानों के साथ कुठाराघात किया है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार एमआईएस के माध्यम से प्रतिवर्ष 1500 करोड़ रुपए के बजट का प्रावधान करती थी लेकिन उसे भी एनडीए सरकार ने एक लाख रूपए तक किया है। जो सबसे बड़ी चिंता की है।

उन्होंने कहा कि इसके विपरीत प्रदेश के किसानों बागवानों की हितैषी सरकार सुखविंदर सिंह सुक्खू ने एमआईएस के तहत 153 करोड़ रुपए दिए। जिसमें जयराम सरकार की 90 करोड़ रुपए की देनदारी भी थी। इसके अलावा सभी फलों के दाम में डेढ़ रुपए की अप्रत्याशित वृद्धि की। इसके अलावा जो पूर्व भाजपा सरकार ने किसानों को मिलने वाले फफूंदनाशक, कीटनाशक,फंगीसाइट, सेक्तिसाइटसाइट पर जो सब्सिडी मिलती थी उसे भी बन्द कर दिया जिसे मौजूदा सरकार ने बहाल कर दिया।

उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि किसानों- बागवानों विरोधी भाजपा को देश की जनता करारा जवाब दे रही है और 4 जून को सत्ता से बेदखल कर इंडिया गठबंधन की सरकार बनाने वाली है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की सुखविंदर सिंह सुक्खू की सरकार ने खजाना खाली होते हुए भी विपरीत परिस्थितियों में कर्मचारियों को ओपीएस और सेब बागवानों का बचा हुआ बकाया दिया।

पत्रकार वार्ता के दौरान विधायक कुलदीप राठौर ने भी एनडीए पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि भाजपा देश के लोकतंत्र को खत्म करने का प्रयास कर रही है। जो देश के धर्मनिरपेक्ष स्वरूप को बचाना चाहते हैं वे सभी इंडिया गठबंधन के साथ इक्कठे हुए हैं। अब तक हुए पांच चरणों के चुनाव में इंडिया गठबंधन बहुमत का आंकड़ा पार कर चुके हैं। जिसके चलते पीएम मोदी के चेहरे पर हताशा व निराशा साफ दिखाई दे रही है।

उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि पीएम मोदी ने 2014 में बड़े- बड़े वादे किए थे लेकिन आज उनके वादों का क्या हुआ उसका वे जिक्र भी नहीं करते हैं। देश के 2 करोड़ युवाओं को प्रतिवर्ष नौकरी देने का वादा किया था आज वह आंकड़ा 20 करोड़ पहुंच चुका है लेकिन पीएम उस पर कोई बात नहीं करते हैं । लेकिन उल्टी छंटनी कर युवाओं को बेरोजगार कर दिया। जिसका जवाब देश के युवा चुनाव में दे रहे हैं। इसके अलावा महंगाई ,भष्ट्राचार पर पीएम मोदी बात नहीं करते हैं। मंहगाई सातवें आसमान पर पहुंच गई है लेकिन पीएम के मुंह से मंहगाई का ‘म’ नहीं निकल पाया है। इसके अलावा देश की आज़ादी के बाद अब तक का सबसे बड़ा भष्ट्राचार इलेट्रॉल बांड के नाम पर किया गया है। जहां लोगों को डरा- धमकाकर करोड़ों रुपए एकत्र किए हैं। जिससे भाजपा फाईव स्टार होटलों की तरह अपने कार्यालय बना रही है। देश की संपति को गिने चुने लोगों के हाथों में बेच दिया है। यदि यह सब दुनिया के किसी दूसरे देशों में होता तो वहां के पीएम और गृहमंत्री अपना इस्तीफा दे देते लेकिन यहां के पीएम और गृहमंत्री उल्टा लोगों को डराते धमकाते हैं। देश के पीएम एक देश एक इलेक्शन नहीं एक देश एक नेता चाहते हैं इसलिए बाबा अंबेडकर द्वारा बनाए गए संविधान को खत्म कर लोकतंत्र की हत्या करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि देश की जनता बीजेपी की कथनी व करनी को समझ चुकी है कि देश को बचाने के लिए इंडिया गठबंधन की सरकार को सत्ता में लाना चाहते हैं।

उधर, माकपा नेता व पूर्व विधायक राकेश सिंघा ने भी भाजपा पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि भाजपा एक देश एक चुनाव नहीं बल्कि एक देश एक नेता चाहती है। इसलिए संविधान पर आक्रमण कर लोकतंत्र की हत्या करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने भी चुनाव आयुक्त की नियुक्ति को लेकर सवाल उठाए हैं इसी तरह इडी और सीबीआई की कार्यशैली को लेकर भी सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा कि इंडिया गठबंधन देश के संविधान बचाने के लिए व हिमाचल के अस्तित्व को बचाने के लिए किया गया है। जबसे प्रदेश का गठन हुआ है तब से जनसंघ और भाजपा प्रदेश को अस्थिर करने की कोशिश कर रहा है। प्रदेश के आय के स्त्रोत पर भाजपा की सरकार ग्रहण लगाकर बैठी है। और प्रदेश के विकास के लिए केंद्र सरकार का नकारात्मक रवैया रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के विकास के लिए सेब उद्योग और पर्यटन सबसे बड़ा उद्योग है । सेब खरीद के लिए 1989 में तत्कालीन सरकार ने 2.80 पैसे दिया था जिसे 1990 में शांता कुमार की सरकार ने कम कर डेढ़ रुपए किया था। जो इनके बागवान विरोधी सरकार की मानसिकता दिखाता है।

उन्होंने पर आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा जिस तरह से देश में चुनी सरकारों को अस्थिर कर खरीद फरोख्त से अपनी सरकार बनाती है वह अब देश की जनता के सामने बेनकाब हो चुकी है। प्रदेश की जनता 6 विधानसभा उपचुनाव के लिए भाजपा को दोषी मानती है। प्रदेश की जनता इन 6 दलबदलुओं के साथ क्या करने वाली है यह उन्हें नहीं पता। जिस तरह से भाजपा ने एमपी, महाराष्ट्र, गोवा में विधायकों की खरीद फरोख्त कर सरकार बनाई और हिमाचल में 6 कांग्रेसी विधायकों की खरीद फरोख्त कर सरकार गिराने का प्रयास किया वह लोगों के जहन में है। इसका करारा जबाव प्रदेश की जनता एक जून को देने वाली है। उन्होंने पीएम मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि पीएम मोदी कहते थे न खाऊंगा न खाने दूंगा आज वे पूरी तरह से बेनकाब हो चुके हैं और 4 जून को देश की जनता इन्हें सत्ता से बेदखल करने वाली है और इंडिया गठबंधन की सरकार बनाने वाली है।